ख्वाहिश / Longing

Kaushal Kishore

मेरी हथेलियां
बहुत छोटी छोटी हैं,
प्यार का अथाह सागर
नहीं समा सकता इनमें,
लेकिन मुझे सागर की
कभी ख्वाहिश ही नहीं रही,
नन्ही हथेलियां ही काफी हैं
मेरे प्यार को संजोने के लिए…

🌊 🌊 🌊

My palms
are too small,
the vast ocean of love
can’t fit in these,
but I’ve never longed
for the ocean,
my little palms are enough
to cherish my love…

–Kaushal Kishore

View original post