मनमोहक

Poetry, literature and my life

प्रतिक्षण नूतन वेश बनाकर रंग-बिरंग निराला।
रवि के सम्मुख थिरक रही हैं नभ में वारिद-माला।
– रामनरेश त्रिपाठी

View original post

2 thoughts on “मनमोहक”

Comments are closed.