मिलो तो सही,,,,,,

anam gour

*कभी मिलो तो सही एक शाम ,,,,,,,,,,

*अपनी जिंदगी की पूरी किताब खोल कर रख देगे,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

*जब भी आना हो आ जाया करो ये देहलीज आज भी तुमारी ही मुंतसर है,,,,,,,,,,,,,,,,,

*वो समंदर का किनारा वो शाम और हम तुम ,,,,,,,,,,,,,,,,,

*कभी आकर तो देखो सारे गिले सिकवे भुला लेंगे,,,,,,,,,,,,,,,,,

* पता नही मौत किस पल आकर गले से लगा ले ,,,, ,,,,,,,,,,,,,,,,,,

* कभी मिलो तो सही एक शाम आकर,,,,,,,,,,,,,,

*कभी मिलो तो सही एक शाम आकर,,,,,,,,,,,,,,

View original post